राजस्थान के प्रमुख लोकदेवताओ के बारे में नोट्स हिंदी में

0

राजस्थान के प्रमुख लोकदेवता नोट्स हिंदी में(rajasthan ke lok devta notes in hindi)- नमस्कार दोस्तों कैसे हो आप सभी उम्मीद करता हु आप सभी अच्छे होंगे दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको बताने जा रहे है राजस्थान के लोकदेवताओ के बारे में जो की राजस्थान में होने वाले कम्पटीशन एग्जाम की तेयारी करने वालो के लिए बहुत ही उपयोगी है-

राजस्थान के पंच पीर- 1. रामदेवजी,2. गोगाजी ,3. हडबुजी,4. मांगलिया मेहाजी ,5. पाबूजी

1. रामदेवजी

☞जन्म- रामदेवजी का जन्म उन्डूकास्मेर(बाड़मेर ) नामक स्थान में सन.1352 ईस्वी(विक्रम संवत. 1409 ) में हुवा था 

पिता- राजा अजमाल  , माता-मैनादे ,बहन-सुगना बाई ,भाई -विरमदेव(बलराम के अवतार माने जाते है ),पत्नी- नैतल्दे/निहालदे(सोढालसिंह की पुत्री ),गुरु का नाम– बालिनाथ जी 

☞ अन्य नाम-रुनेचा रा धणी,पिरो का पीर ,सांप्रदायिक-सदभाव के लोकदेवता ,रामसापीर 

☞हिन्दू इन्हें कृष्ण का अवतार मानते है और मुसलमान इन्हें रामसापीर के नाम से पुकारते है 

☞बाबा रामदेवजी ने ही कामडीया पंथ की स्थापना की थी 

☞रामदेवजी के मेले का प्रमुख आकर्षण तेरहताली नृत्य है जो की कामड जाति की महिलाओ द्वारा किया जाता है 

☞रामदेवजी ने भैरव नामक राक्षश का वध किया था 

☞रामदेवजी ही एक मात्र ऐसे लोकदेवता थे जो की एक कवि भी थे जिन्होंने ने चौबीस बानीया  की रचना की थी 

☞रामदेवजी का मेला रुणेचा में प्रतिवर्ष भाद्रपद शुक्ल द्वितया से एकाद्समी तक लगता है 

☞रामदेवजी के चमत्कारों को- परचे/परचा देना कहा जाता है ,ध्वजा को-नेजा कहा जाता है ,प्रतीक चिन्ह-पगल्या/चरण चिह्न ,वाहन –नीला घोडा ,रात्रि जागरण को-जम्मा कहा जाता है 

☞भगतजन इन्हें कपड़े का घोडा भी चढाते है 

डाली बाई रामदेवजी की धर्म बहिन थी जो की मेघवाल जाती की थी 

प्रमुख मंदिररामदेवरा(जैसलमेर),सुरता खेड़ा (चित्तोडगढ),मसुरिया(जोधपुर ),अधरशिला मंदिर (जोधपुर )

2. वीर तेजाजी 

☞जन्म- तेजाजी का जन्म खड़नाळ(नागोर) में सन-1074ईस्वी(वि.स.1131) में नागवंशीय जाट परिवार में हुवा था 

☞पिता का नाम- ताहड़  ,माता का नाम-राज कंवरी ,पत्नी का नाम-पेमल दे(विशेष-मीरा बाई के बचपन का नाम भी पेमल ही था )

अन्य नामसांपो के देवता,गायो का मुक्तिदाता ,काला-बाला का देवता,कृषि कार्यो का उपकारक देवता ,धौलिया वीर 

☞वाहन- लिळण घोड़ी 

☞प्रतीक चिह्न- तलवार धारी अश्वारोही योधा(जिनकी जिह्वा पर सांप डसता हुवा चित्रित किया जाता है )

☞तेजाजी का प्रमुख मेला(पशु मेला ) राजस्थान के नागोर जिले के परबतसर नामक स्थान पर प्रतिवर्ष  भाद्रपद शुक्ल पक्ष की दशमी को लगता है 

3. पाबूजी 

☞जन्म- पाबूजी का जन्म कोलुमंड/कोलू(जोधपुर) में सन 1239 ईस्वी(वि.स.1296) में राठोड़ राजवंश परिवार में हुवा था 

☞पिता का नाम-धाँधलजी राठोड़,माता का नाम-कमला दे ,पत्नी का नाम-फूलम दे 

☞पाबूजी की घोड़ी का नाम केसर कालमी था ये घोड़ी पाबूजी को देवली चारण के द्वारा दी गयी थी 

अन्य नाम- ऊटो का देवता ,गौरक्षक देवता ,प्लेग रक्षक देवता ,हाड़-फाड़ देवता ,लक्ष्मण जी का अवतार

रायका जाति के आराध्य देव पाबूजी है इस लिए जब कभी ऊँट बीमार हो जाता है तो पाबूजी की फड़ का बांची जाती है 

पाबूजी की फड़ सबसे ज्यादा लोकप्रिय फड़ मानी जाती है जिसका वाचन करते समय रावण हत्था नामक वाध्य यंत्र का इस्तेमाल किया जाता है 

☞मारवाड़ में सर्वप्रथम ऊंट लाने का श्रेय पाबूजी को ही जाता है 

☞प्रतीक चिह्न-भाला लिए हुए अश्वारोही 

☞पाबूजी के उपासको द्वारा इनकी स्मृति में थाली नृत्य किया जाता है 

☞पाबूजी का प्रमुख मंदिर कोलुमंड(जोधपुर) में है जहा पर प्रतिवर्ष चेत्र अमावश्या को मेला लगता है 

4. गोगाजी 

☞जन्म- गोगाजी का जन्म ददरेवा(चुरू ) में वि.स.1003 में नागवंशीय चौहान परिवार में हुवा था 

☞ पिता का नाम- जेवर सिंह , माता का नाम- बाछल ,पत्नी का नाम-केलमदे  गुरु का नाम-गोरखनाथ 

अन्य नामनागों का देवता ,जाहरपीर ,नागराज का अवतार ,गोगापीर

☞गोगा जी का थान खेजड़ी वृक्ष के निचे बना होता है ,जहा पर पत्थर पर सांप की आकृति बनी होती है  

☞किसान हल जोतते से समय हल और हाली को गोगा राखडी बांधते है 

☞गोगाजी का प्रमुख मंदिर-गोगामेडी/धुरमेडी-नोहर (हनुमानगढ़) में है जहा पर प्रतिवर्ष भाद्रपद कृष्ण नवमी (गोगा नवमी ) को मेला लगता है

5. हड़बुजी    

☞जन्म- हडबुजी का जन्म भुडेल गाव(नागोर) में हुवा था मेहाजी के यहाँ पर 

☞गुरु का नाम- बालिनाथ 

☞वाहन- हडबुजी का वाहन सियार है 

☞अन्य नाम- वचन सिध्पुरुष ,चमत्कारी पुरुष ,शकुन शास्त्र के ज्ञाता ,योगी सन्यासी ,वीर योधा 

☞हडबुजी का प्रमुख मंदिर बेंगटी(फलौदी, जोधपुर) में है जिनके पुजारी सांकला राजपूत होते है 

☞हडबुजी ऐसे लोकदेवता है जिनके मंदिर में कोई भी मूर्ति नही होती है बल्कि इनकी गाड़ी की पूजा की जाती है 

6. मेंहा जी मांगलिया 

☞मेहा जी मांगलिया को राजस्थान के पंचपिरो में गिना जाता है 

☞पिता का नाम-गोपाल राज सांखला 

☞वाहन- किरड काबरा(घोडा )

☞प्रमुख मंदिर-बापणी(जोधपुर )

7. देवनारायण जी 

जन्म- देवनायारण का जन्म मालासेरी की डूंगरी में सन-1243 ईस्वी(वि.स.1300) में बगडावत वंश के गुर्जर परिवार में हुवा था 

☞पिता का नाम- सवाईभोज(बाघसिंह के पुत्र ),माता का नाम- साडू खटानी ,पत्नी का नाम-पीपल दे ,

☞वाहन- लीलाघर घोड़ा 

देवनारायण जी की फड़ सबसे लम्बी ,सबसे प्राचीन और सबसे छोटी फड़ है जिसका वाचन करते समय जंतर वाद्य का इस्तेमाल किया जाता है (विशेष- देवनारायण एक मात्र ऐसे लोकदेवता है जिनकी फड़ पर भारतीय डाक विभाग द्वारा 1992 में डाक टिकिट जारी किया गया )

☞देवनारायण जी को राज्य क्रांति का जनक कहा जाता है 

☞देवनारायण जी का मंदिर आसींद में है जहा पर प्रतिवर्ष भाद्रपद शुक्ल पक्ष की सप्तमी को मेला लगता है 

अन्य मंदिर- देवमाली,ब्यावर (अजमेर),देवडूंगरी(चितोड़),देवधाम,जोधपुरिया(टोंक)

8. मल्लीनाथ जी 

☞जन्म-मल्लीनाथ जी का जन्म तिलवाड़ा(बाड़मेर) में सन-1358 ईस्वी(वि.स.1415) में हुवा था 

☞पिता का नाम-रावल सलखा(राव तिडा),माता का नाम-जीणादे

☞अन्य नाम-सिद्धपुरुष,चमत्कारी योद्धा

☞मंदिर- तिलवाड़ा(बाड़मेर) में है जहा पर प्रतिवर्ष चेत्र मास में कृष्ण पक्ष एकाद्स्मी से शुक्ल पक्ष की एकाद्समी तक मेला लगता है 

9. वीर कल्लाजी 

☞जन्म- सामियान गाव(मेड़ता नागोर) सन- 1544 ईस्वी में राठोड़ राजपूत परिवार में हुवा था 

☞वीर कल्लाजी आससिंह के पुत्र और मीरा बाई के भतीजे थे 

☞वीर कल्लाजी राठोड़ को चार हाथो वाले देवता (शेषनाग का अवतार )भी कहा जाता है 

अन्य नाम- बालब्रहमचारी,योगी कमधण,अस्त्र-शस्त्र विद्या के पारंगत

Also Read –राजस्थान के सम्भाग और जिले याद करने की बेस्ट ट्रिक्स

10. बिग्गाजी 

☞जन्म- बिग्गाजी का जन्म सन-1301 ईस्वी में रिडी गाव(बीकानेर ) में हुवा 

☞पिता का नाम-राव मोहन,माता का नाम-सुल्तानी 

जाखड़(जाट) समाज बिग्गाजी को अपना कुल देवता मानते है

 11. भूरिया बाबा

☞मीणा जनजाति के आराध्य देव माने जाते है इस कारण मीणा जनजाति का कोई भी व्यक्ति भूरिया बाबा की झूटी कसम नही खाता है 

☞भूरिया बाबा को गौतम बाबा के नाम से भी जाना जाता है 

12. तल्लिनाथ जी 

☞तल्लिनाथ जी शेरगढ़ ठिकाने(जोधपुर) के राव मालदेव के भाई विरमदेव के पुत्र थे तथा मण्डोर के शासक राव चुडा के भाई थे 

☞इन्हें प्रकृति प्रेमी लोकदेवता माना जाता है 

13.रूपनाथ जी (झरडा)

☞रूपनाथ जी पाबूजी के  बड़े भाई बूढों जी के पुत्र थे 

☞इन्होने ने अपने पिता व चाचा की मृत्यु का बदला जिन्दराव खिंची को मार कर लिया 

14. बाबा झुझार जी 

☞झुझार जी का जन्म सीकर जिले के नीमका थाना तहसील के इमहोला कस्बे में एक राजपूत परिवार में हुवा था 

☞स्यालोद्डा गाव(सीकर) में प्रतिवर्ष रामनवमी के दिन बाबा झुझार जी का मेला लगता है 

15. वीर फत्ता जी 

☞वीर फत्ता जी का जन्म सांधू गाव(जालौर ) के ही गज्जारिणी परिवार में हुवा था सांधू गाव में प्रतिवर्ष भादवा सुदी नवमी को इनका विशाल लगता है 

16.पनराज जी 

☞इनका जन्म जैसलमेर जिले के नया गाव के एक क्षत्रिय परिवार में हुवा था 

☞इनका मेला पनराजसर गाव (जैसलमेर) में दो बार भाद्रपद शुक्ल दशमी और माघ शुक्ल दशमी को लगता है 

17. हरिराम बाबा या हिरामन बाबा 

☞जन्म- विक्रम संवत –1959

☞पिता का नाम- राम नारायण ,माता का नाम- चंदणी देवी 

☞इनके मंदिर में मूर्ति नही होती है मात्र सांप की बाम्बी और बाबा के प्रतीक के रूप में चरण कमल होते है 

18. इलोजी 

☞इन्हें छेड़छाड़ के लोकदेवता कहा जाता है 

☞यह नव दम्पतियों को सुखद जीवन और बाँझ स्त्रियों को संतान देते है 

19. भोमिया जी  

☞लोकदेवता भोमिया जी गाव-गाव में भूमि रक्षक देवता के रूप में पूजे जाते है 

20. देवबाबा 

☞देव बाबा के प्रति गुर्जर जाति के लोगो में अपार श्रध्दा है 

☞इन्हें ग्वालो के प्लानहार,कष्ट निवारक देवता आदि नामो से भी जाना जाता है 

☞इनका मंदिर नगला जहाज (भरतपुर ) में है 

☞वाहन- भैंसा(पाडा)

21. बाबा मामादेव 

☞इन्हें वर्षा के लोकदेवता कहा जाता है 

☞इनकी मूर्ति पत्थर की न होकर लकड़ी के कलात्मक तोरण बनाकर गाव के मुख्य प्रवेश मार्ग पर स्थापित की होती है 

☞मुख्य मंदिर स्यालोदड़ा(सीकर) में स्थित है जहा पर प्रतिवर्ष रामनवमी को मेला लगता है 

 

उम्मीद करता हु आप सभी को ये पोस्ट पसंद आया होगा अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में बता सकते है और अगर आपको ये ब्लॉग उपयोगी लगता है तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here